भारत में निर्मित वैक्सिन पूरी तरह से सुरक्षित: कटारिया

Advertisements

अंबाला, 13 मार्च:- केंद्रीय जल शक्ति एवं सामाजिक न्याय व अधिकारिता राज्यमंत्री रतन लाल कटारिया ने कहा कि कोविड-19 के दृष्टिगत भारत में निर्मित वैक्सिन पूरी तरह से सुरक्षित हैं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भारत में कोरोना संक्रमण के फैलाव को रोकने में समय रहते बेहतर कदम उठाएं है, जिसका परिणाम यह है कि भारत में निर्मित वैक्सिनों को दूसरें देशों में सप्लाई करने का काम किया जा रहा हैं।

यह उदगार उन्होंने आज नागरिक अस्पताल अम्बाला शहर में कोविड-19 जागरूकता अभियान एवं वैक्सीन लगवाने को लेकर स्थापित किये गये बूथ का बतौर मुख्यतिथि शुभारम्भ करते हुए अपने सम्बोधन में कहें। इस मौके पर उनके साथ अम्बाला शहर के विधायक असीम गोयल नन्यौला भी मौजूद रहें। उन्होनें इस मौके पर कार्यकत्र्ताओं व आम लोगों को लगाई जा रही वैक्सिन की व्यवस्था को भी देखा। यहां पहुंचने पर सिविल सर्जन डॉ0 कुलदीप सिंह ने राज्यमंत्री व विधायक असीम गोयल को पर्यावरण का प्रतिक पौधा देकर उनका अभिन्नदन किया।
केन्द्रीय राज्य मंत्री रत्नलाल कटारिया ने इस मौके पर कहा कि आज सारे देश में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के आहवान पर वैक्सिन लगाने का कार्य किया जा रहा हैं। सारे देश में तकरीबन 20 लाख लोगों को हर रोज यह वैक्सिन लग रही हैं। महान वैज्ञानिकों द्वारा इस वैक्सिन को तैयार किया गया हैं। उन्होनें यह भी कहा कि एक महीने के बाद वह दिन दूर नहीं जब सारे संसार में वैक्सिन लगाने की संख्या एक तरफ होगी और अकेले भारत में वैक्सिन लगने की संख्या एक तरफ होगी। उन्होनें यह भी कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में देश एक सेफ विकट के उपर खड़ा हैं। उन्होनें कहा कि पिछले साल 8 मार्च को जब भारत में कोरोना महामारी शुरू हुई थी, उसी समय उन्होनें बैठक लेकर इसे रोकने बारे तुरन्त कदम उठाए थें। इसके दृष्टिगत उन्होंने पूरे भारत में लॉकडाउन लगाकर एक सराहनीय कदम उठाया था, ताकि इसके संक्रमण के फ ैलाव को रोका जा सकें। इतना ही नहीं देश की जनता के लिए 20 लाख करोड़ रूपए के पैकेज लाने का काम किया। देश में 80 करोड़ लोगों को भोजन उपलब्ध करवाने का काम किया गया, किसी को भी भूख से प्रभावित नहीं होने दिया। कोरोना महामारी को रोकने में स्वास्थ्य कर्मी, निकाय कर्मी, पुलिस कर्मी, पैरामेडिकल स्टॉफ ने अपनी जान की परवाह न करते हुए हम सबको सुरक्षित रखने का काम किया है। उन्होनें यह भी कहा कि जिस समय भारत में कोरोना संक्रमण फैलना शुरू हुआ था, उस समय भारत में मात्र एक ही कोरोना टेस्टिंग लैब पूणे में थी। आज भारत में 2500 से उपर कोरोना टैस्टिंग लैब है। देश में प्रतिदिन लाखों की संख्या में कोरोना टेस्ट किए जा रहे हैं। लगभग 5 लाख पीपीटी किट भारत में हर रोज बन रहीं हैं, वैटिंलेटर भी तेजी से बन रहे हैं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने इस आपदा के समय को अवसर में बदलने का काम किया हैं। जो कार्य उन्होंने किया है उसकी पूरी दुनिया कायल है।
इस अवसर पर केन्द्रीय राज्य मंत्री रतन लाल कटारिया ने कोविड-19 रोकथाम के लिए वैक्सीन लगवाने के लिए आए कार्यकत्र्ताओं एवं अन्य लोगों को प्रोत्साहित किया। केंद्रीय राज्यमंत्री ने कहा भारत में कोविशिल्ड तथा कोवैक्सीन नागरिकों को लगाई जा रही है। उन्होंने सभी से कहा निर्धारित मापदण्डों के तहत चरणबद्ध तरीके से स्वयं वैक्सिन लगवाएं तथा दूसरों को भी इसके लिए पे्ररित करें।
राज्यमंत्री ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि विपक्षी दल इस वैक्सिीन को लेकर दुषप्रचार कर रहें है जोकि गलत हैं। भारत में निर्मित वैक्सिन पूरी तरह से सुरक्षित है। इस वैक्सिन को स्वयं लगवाएं व दूसरों को लगवाने के लिए पे्ररित करें ताकि कोरोना को भारत से खत्म करने का काम किया जाए। उन्होंने कहा कि अखिलेश यादव इस वैक्सिन को लेकर दुषप्रचार कर रहें हैं, जोकि गलत हैं। भारत में निर्मित वैक्सिन भारत के महान वैज्ञानिकों की महान खोज हैं।
इस मौके पर विधायक असीम गोयल नन्यौला ने वैक्सिन लगवाने आए कार्यकत्र्ता व अन्य लोगों को प्रोत्साहित करते हुए कहा कि आज हर भारतवासी के लिए गर्व की बात है कि यह वैक्सिन भारत द्वारा निर्मित हैं, पूरी तरह से सुरक्षित हैं। विश्व के बड़े देशों की बात करें तो चीन दुनिया का सबसे बड़ा देश है, जिसने सारी दुनिया को कोरोना वायरस देने का काम किया है, जबकि विश्व में भारत दूसरे नम्बर का सबसे बड़ा देश है, जिसने पूरी दुनिया को इस महामारी से बचाने के लिए वैक्सिन देने का काम किया हैं। उन्होनें कहा कि एक समय ऐसा भी था जब भारत की पूर्व स्वास्थ्य मंत्री अमृत कौर ने कनाडा से पैन्सीलिन वैक्सिन की मांग की थी और आज बड़े सौभाग्य और गर्व की बात है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के कुशल नेतृत्व में वैज्ञानिकों ने भारत में निर्मित इन दोनों वैक्सिनों को बनाने की खोज की है और डब्ल्यूएचओ ने भी इस वैक्सिन को सुरक्षित माना हैं और आज भारत में निर्मित वैक्सिन को अनेक देशों में भेजने का काम किया जा रहा है जिसमें कनाडा देश भी शामिल हैं। उन्होंने इस मौके पर यह भी कहा कि मुख्यमंत्री मनोहर लाल व स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने भी प्रदेश में इस संक्रमण के फैलाव को रोकने के दृष्टिगत अनेकों सराहनीय कार्य किए हैं। कोराना काल में चिकित्सा सुविधाओं में बेहतर सुधार करते हुए लोगों को चिकित्या सुविधाएं उपलब्ध करवाई हैं। उन्होंने कार्यकत्र्ताओं को कहा कि वे स्वयं इस वैक्सिन को लगवाएं और अन्य लोगों को भी इसके लिए पे्ररित करें। उन्होंने कोविड-19 के दृष्टिगत स्वास्थ्य विभाग द्वारा किए जा रहें कार्यो की भी सराहना की।
सिविल सर्जन डॉ0 कुलदीप सिंह ने मुख्यअतिथि व विधायक का स्वागत करते हुए कहा कि अम्बाला जिले में वैक्सिन लगाने का कार्य तेजी से किया जा रहा हैं। सोमवार को 10 हजार लोगों को वैक्सिन लगाने का लक्ष्य रखा गया हैं।
इस मौके पर डॉ0 संगीता गोयल, डॉ0 बेला शर्मा, पूर्व मेयर रमेश मल, पार्षद अर्चना छिब्बर, हितैष जैन, मन्नी आन्नद, गुरचरण सिंह, विधानसभा संयोजक संदीप सचदेवा, रितेश गोयल, गुरविन्द्र सिंह मानकपुर, अमन सूद, राजेश गोयल, पुष्पा गुप्ताा, सुरेन्द्र ढिंगरा, चन्द्र मोहन फौजी, मनदीप राणा, संजीव गोयल टोनी, जिला मीडिया प्रभारी सुधीर शर्मा, उमा शर्मा, बिनू गर्ग के साथ-साथ भाजपा पार्टी के अन्यपदाधिकारीगण व गणमान्य लोग मौजूद रहें।

Leave a Reply